Main Page Anya Jyotirlinga Photo Gallery Ujjaincity Tyohar Sampark
 
 
    इतिहास  
    मन्दिर  
    नित्‍य कार्यक्रम  
    कार्यरत पुरोहित  
    प्रबंध समिति‍  
    मुख्‍य पुजारी  
    स्‍तुतियॉ  
    धर्मशाला जानकारी  
    भस्‍मआरती नि‍यम  
       पूजन/अभिषेक  
 
 
 
 
   

जाती है, वहॉ शिप्रा पूजन के पश्चात ढ़ाबा रोड़, गोपाल मंदिर होकर पुन: मंदिर पर आती है। श्रावण की सवारी में भी सवारी का मार्ग यही होता है।

अन्नकूट महोत्सव

कार्तिक कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी (अनर्क 14 रूप 14) को भगवान का अन्नकूट महोत्सव परंपरा से भस्मार्ती के नेमनूक द्वारा आयोजित होता है। भक्तो के सहयोग से पुजारीवर्ग द्वारा भी अन्नकूट होने लगा है शासकीय अन्नकूट दिन में 10 बजे से होता है।

हरिहर-मिलन

कार्तिक शुक्ल चतुर्दशी (वैकुण्ठ चतुर्दशी) की रात्रि में शंकर और विष्णु का मिलन हरिहर मिलाप के रूप में होता है। मध्य रात्रि में महाकालेश्वर की सवारी गोपाल मंदिर जाती है। वहॉ मंदिर संस्थान की ओर से भगवान महाकालेश्वर का पूजन विष्णु को प्रिय तुलसीदल से किया जाता है, बाद ऊपर रात्रि में 4 बजे गोपालजी की सवारी गोपाल मंदिर से महाकाल मंदिर पर आती है और यहाँ भस्मार्ती के समय भगवान चतुर्भज को फलों का भोग और शिवप्रिय बिल्वपत्र अर्पित किये जाते है, इस दिन भगवान को विभिन्न ऋतु फलों का भोग लगाया जाता है। सम्वत 2004 वि. (सन् 47) के पश्चात् से गोपालजी की सवारी नहीं आती है, उस परम्परा का निर्वाह स्थानीय बड़े गणेश से भक्त लोग चतुर्भज भगवान की सवारी ले जाकर पर्व परंपरा का निर्वाह करते हैं।