Main Page Anya Jyotirlinga Photo Gallery Ujjaincity Tyohar Sampark
 
 
    इतिहास  
    मन्दिर  
    नित्‍य कार्यक्रम  
    कार्यरत पुरोहित  
    प्रबंध समिति‍  
    मुख्‍य पुजारी  
    स्‍तुतियॉ  
    धर्मशाला जानकारी  
    भस्‍मआरती नि‍यम  
       पूजन/अभिषेक  
 
 
 
 
   

शिवरात्रि महोत्सव

फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष में शिवरात्रि के पूर्व 9 दिन से नवरात्रि में भगवान का नित्य श्रृंगार लघुरूद्राभिषेक, हरिकीर्तन कथा आदि का आयोजन होता हैं। शिवरात्रि को लाखों भक्तगण भगवान के दर्शन करते है। रात्रि में महापूजन, महान्यास आवरण, धान्य पूजन आदि परंपरागत धार्मिक विधि सम्पन्न होती है। महर्षि सांदीपनि द्वारा भगवान को श्रीकृष्ण को दिये महाकालेश्वर के सहस्त्र नामावली से बिल्वपत्र अर्पण किये जाते है। ग्वालियर, होल्कर, देवास आदि भूतपूर्व राज्य की परम्परागत नेमनूक से पूजन व्यवस्था चल रही है। रात्रि पूजन के पश्चात पुष्पों से भगवान का सेहरा श्रृंगार किया जाता है, जिसके प्रात: काल से मध्यान्ह तक दर्शन होते है।

होली उत्सव

होली पूजन में गुलाल, हार-फूल, फल-प्रसाद विशेष विजया (भांगे) से अभिषेक भोग और भांग प्रसाद (ठंडार्इे) का वितरण होता है।